लोन नहीं चुकाने वालों के अधिकार Rights of Loan Defaulters in Hindi - ANISHAHIR

Top Ad unit 728 × 90

लोन नहीं चुकाने वालों के अधिकार Rights of Loan Defaulters in Hindi

Rights of Loan Defaulters in Hindi  हम भी से कितने ही नौजवान हर रोज एक नया सपना देखते हैं मेरे पास एक खूबसूरत घर होगा मेरे पास एक खूबसूरत गाड़ी होगी और मैं एक बड़ी कंपनी का मालिक होगा और मैं एक कामयाब जिंदगी बिताऊंगा और मेरे पास बहुत सारा बैंकबैलेंस भी होगा और भी न जाने क्या क्या लेकिन दोस्तों ऐसे सपनों को पूरा करने के लिए मेहनत और लगन के साथ साथ हमें पैसों की भी आवश्यकता होती है इस बात को हम सब अच्छी तरह से जानते हैं और इन्हीं पैसों की कमी के चलते न जाने कितने युवाओं के सपने बस सपना ही बनकर अधूरे रह जाते हैं







समाज में युवाओं की आर्थिक मंदी के लिए और युवाओं का कोई सपना न टूट जाए इसके लिए सरकार ने बैंकों के द्वारा बैंकों के स्कोर बनाएं   Banking Sector   हैं और इन सभी स्कोर में ग्राहकों से पैसे जमा करवाकर और दूसरी तरफ ग्राहकों को उनकी आर्थिक सहायता के लिए अधिक EMI  High Interest   पर लोन की सुविधा बैंकों के द्वारा दी जाती है और इससे बहुत सारे जरूरतमंदों को बड़ी आसानी से उनका काम निकल जाता है आज के समय में एक आम इंसान अपनी लाइफ में तरक्की करने के लिए या कोई अपना नया बिजनेस स्टार्ट करने के लिए अधिकतर लोन के ऊपर आश्रित होते हैं  परन्तु तब क्या जब आप लोन Repay करने में असमर्थ (Unable) हो अथवा आपका खाता NPA (Non Performing Asset) हो जाये. ऐसे में कई बार उचित मार्गदर्शन एवं जागरूकता के अभाव में ग्राहकों द्वारा गलत कदम भी उठाते हुए देखा गया है. तो दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आप लोगों को बताऊंगा कि अगर आपके साथ ऐसी कोई परेशानी या दिक्कत आ रही है तो आप उसे किस तरह से निपट सकते हो मैं हूं  रोहित राठौर और आप हो सपोर्ट में इंडिया ब्लॉक Sports पर अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो आप हमारे साथ जुड़ सकते हो अगर आपको भी लिखने का शौक है तो अपने आर्टिकल हमें भेज सकते हो हम अपनी वेबसाइट पर आर्टिकल को जरूर पब्लिश करेंगे तो चलिए बढ़ते हैं हम अपने आगे मुद्दे की बात के ऊपर




बैंक का लोन न चुकाने पर क्या होता है





 Loan Repayment नहीं कर पाने की स्थिति में ग्राहकों के पास कुछ अधिकार होते हैं इन अधिकारों का उपयोग करके हमें कुछ दिन की और मोहलत मिल जाती है अपने लोन को चुकाने की



1.ग्राहक नोटिस का अधिकार –  bank loan defaulters list आने पर आपसे आपकी कोई भी अधिकार छीने नहीं जा सकते और न इससे आप कोई अपराधी बनते हो बैंकों को एक निर्धारित प्रोसेस का पालन कर अपनी बकाया रकम की वसूली के लिए आपकी आपके द्वारा गिरवी रखी गई प्रॉपर्टी  पर कब्जा करने से पहले आपको लोन चुकाने का समय देना होता है। हमेशा की तरह  हर बैंक को बैंक इस तरह की कार्रवाई सिक्योरिटाइजेशन एंड रिकंस्ट्रक्शन ऑफ फाइनेंशियल एसेट्स एंड एनफोर्समेंट ऑफ सिक्योरिटी इंटरेस्ट्स (सरफेसी एक्ट
Securitisation and Reconstruction of Financial Assets and Enforcement of Security Interest Act, 2002. also known as the SARFAESI Act के तहत करते हैं।

अगर Karz लेनदार  ग्राहक  का  एकाउंट नॉन-परफॉर्मिंग एसेट (एनपीए) की कैटेगरी में डाला गया है,तो इसका मतलब है कि आपने 90 days या इससे अधिक time से  आप अपनी कर्ज की किश्त या ईएमआई को नहीं भर रहे हो  ऐसी स्थिति उत्पन्न होने पर जब आप कम से कम 90 दिन से या इससे भी अधिक दिन से अपने Karz की कोई भी किस्त बैंक को आप नहीं दे रहे हो तब बैंक आपको 60 दिन का समय नोटिस के द्वारा देता है






आप इस नोटिस का कोई भी जवाब नहीं देते तब बैंकों को आपके द्वारा रखी गई गिरवी प्रॉपर्टी को नीलाम करने से पहले आप को बैंक के द्वारा  30 दिन का एक और नोटिस मिलता है इस नोटिस के अंदर आप की प्रॉपर्टी को नीलाम करने की वजह और सारी चीजें बताई गई होती है अगर आपने कोई भी बैंक के द्वारा लोन लिया है और उस लोन की किस्त आपने 90 दिन से नहीं भरी है तब बैंक आपकी प्रॉपर्टी को तब तक नीलाम नहीं कर सकता जब तक वह आपको 90 दिन पहले एक नोटिस ना दे दे और इस नोटिस में सारे कारण आपको बताए जाते हैं

 2. प्रॉपर्टी के मालिक के द्वारा सही वैल्यू सुनिश्चित करने का अधिकार– जब आप को नोटिस मिलता है तो उस नोटिस के अंदर दिए गए समय के अंदर आप अपनी बकाया राशि को चुकाने में असमर्थ रहते हैं या उस नोटिस का जवाब देने में आप असमर्थ हो जाते हो तब कर्ज लेनदार अपनी रकम की वसूली के लिए गिरवी रखी गई प्रॉपर्टी की नीलामी शुरू कर देता है लेकिन ऐसा करने से पहले Karz लेनदार को अपने ग्राहक को एक और नोटिस देना होता है इस नोटिस के अंदर उसकी प्रॉपर्टी की टोटल वैल्यू    मूल्य  की डिटेल्स उसे दी जाती है इस नोटिस के अंदर नीलाम होने वाली प्रॉपर्टी की कुल कीमत नीलामी की तारीख और नीलामी का समय जैसी कई सारी चीजें होती हैं  अगर बैंक के द्वारा आपकी गिरवी रखी गई प्रॉपर्टी की कीमत कम लगाई जाती है तो कर्ज लेने वाला ग्राहक इसकी आपत्ति दर्ज करवा सकता है अगर मैं इसको दूसरे शब्दों में आपको कहूं तो आप खुद अपनी प्रॉपर्टी के लिए एक अच्छा ग्राहक ढूंढ सकते हो जो जो आपकी प्रॉपर्टी की कीमत सही से आपको दे दे यह आपके पास अधिकार होता है




3.अपनी बाकी रकम हासिल करना  -- बैंक आप की प्रॉपर्टी पर कब्जा कर ले तो आप कभी यह न सोचें कि आप की प्रॉपर्टी आपके हाथ से निकल गई है आप उसे कभी वापस नहीं ले पाओगे  जब भी आप की प्रॉपर्टी की नीलामी की जो भी रकम आती है अगर वह रकम आपके घर से अधिक होगी तो आपको आपकी प्रॉपर्टी की बकाया रकम मिल जाती है क्योंकि बैंकों को अपने कर्ज की रकम लेने का ही अधिकार होता है और बाकी की रकम आपको दे दी जाती है

 4.   ग्राहक  सुनवाई का अधिकार  आपने जिस बैंक से भी कर्ज लिया हो और वह आप को नोटिस भेज चुका है तो आप उस बैंक के किसी मेन अधिकारी से अपनी किस्त ना भरने की वजह बता सकते हो अगर वह आपकी इस अपील को खारिज करता है तो बैंक अधिकारी को आप की अपील खारिज करने का कोई कारण आपको बताना होता है

5.मानवीय व्यवहार का अधिकार– आपको इस चीज को कभी नहीं भूलना चाहिए कि जितनी भी बैंक है उन सब बैंकों के ऊपर हमारी आरबीआई रिजर्व बैंक का कंट्रोल होता है पर वह अपनी बकाया रकम हमसे वसूलने के लिए साहूकारों की तरह हमसे व्यवहार नहीं कर सकते हैं रिकवरी एजेंटों की रिकवरी के दुर्व्यवहार को देखते हुए कुछ समय पहले आरबीआई बैंक ने सभी बैंकों को फटकार लगाई थी रिकवरी करने वाले किसी भी ग्राहक के साथ कोई भी बदतमीजी या गुलामों जैसा व्यवहार नहीं कर सकते  एजेंट्स केवल ग्राहक की पसंद वाले स्थान पर उनसे संपर्क कर सकते हैं। अगर ग्राहक ने ऐसा कोई स्थान नहीं बताया तो एजेंट ग्राहक के घर या कम करने की जगह पर जा सकते हैं। एजेंट्स को ग्राहक की प्राइवेसी का ध्यान रखना होता है। वे केवल सुबह सात बजे से शाम सात बजे के बीच ही ग्राहक के पास जा सकते हैं।
लोन नहीं चुकाने वालों के अधिकार Rights of Loan Defaulters in Hindi Reviewed by Rule Breaker on July 20, 2018 Rating: 5

No comments:

आप का कोई सुझाव परामर्श देने के लिए
या आप को लिखे गये पोस्ट के मुताबित मदत और सहयेता के लिए
आप कमेंट लिख सकते हो

All Rights Reserved by ANISHAHIR © 2014 - 2018
Powered by Blogger, Designed by Ahir group's

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.