ट्रैफिक पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi - ANISHAHIR

Top Ad unit 728 × 90

ट्रैफिक पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi

रोड पर वाहन लेकर चलने वाली हमारी आम जनता की अक्सर यह शिकायत रहती है ट्रैफिक पुलिस वाले हमेशा गलत चालान काटते हैं और लोगों से अधिक चालान का डर दिखाकर अपनी मनमर्जी के मुताबिक़ पैसे वसूल करते हैं चाहे वह फिर एक स्कूटर चालक हो या फिर मोटरसाइकिल बाइक चालक हो या फिर कोई ट्रक ड्राइवर और आम जनता की हमेशा  इस तरह की शिकायतें देखने को मिलती रहती हैं चालान कटने पर  किसी इंसान के द्वारा विनती करने पर या फिर चालान का विरोध करने पर कुछ ऐसे अधिक मामले उस चालान के अंदर जोड़ दिए जाते हैं जो गलतियां ड्राइवर ने उस समय की ही नहीं होती है


 ट्रैफिक  पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi


वैसे तो ट्रैफिक  पुलिस का हमारी रोज मजार की जिंदगी में एक अलग और विशेष महत्व है ट्रैफिक पुलिस रोड के ऊपर होते हुए भी आज रोड़ों की यह हालत है कि हमें आए दिन कहीं ना कहीं एक्सीडेंट के जैसी दुर्घटनाओं के बारे में सुनने और जानने को मिलता है अगर ट्रैफिक पुलिस ना हो तो सोचिए हम लोगों का आम जिंदगी में रोड़ों पर क्या हाल होगा और वैसे देखा जाए तो हमारे समाज में ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो कानून और नियमों को तोड़ने में अपनी बहादुरी समझते हैं ऐसे लोग सिर्फ कानून के डंडे की ही भाषा समझते हैं अगर ऐसे लोगों का चालान ना काटा जाए और ऐसे लोगों को सजाना  नहीं दी जाए तो उन लोगों को  देखते हुए  दिन-ब-दिन    ऐसे लोगों की तादाद हमारे समाज में बढ़ती जाएगी जो कानून के नियमों का उल्लंघन करेंगे





 ट्रैफिक  पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi




हम ट्रैफिक पुलिस के कामकाज को तीन लेवल पर देख सकते हैं


    बधाई के पात्र

     दया के पात्र

     दंड के पात्र



 ट्रैफिक  पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi



1 जब ट्रैफिक पुलिस अपनी पूरी ईमानदारी और शिद्दत से ट्राफिक को संभाल रहे होते हैं गर्मियों की चिलचिलाती धूप हो या सर्दियों की कड़ी सर्दी 12 घंटे की अपनी ड्यूटी में इमानदारी के साथ अपने फर्ज को निभाने में जो उनकी हालत होती है वह तो वही जानते हैं  एक आम इंसान गर्मियों की धूप में एक घंटा भी खड़ा नहीं रह सकता यह बात हम अच्छी तरह से जानते हैं ट्रैफिक पुलिस के इस तरह मेहनत के काम को देख कर सचमुच वह एक बधाई के पात्र हैं और उनके काम की वजह से उनको सैल्यूट करने का मन करता है


2 दया के पात्र   दबाव में कार्य करना जैसे कि उन लोगों को ऊपर से एक टारगेट थमा दिया जाता है कि आपको इस महीने में इतने टारगेट का चालान काटना है और  और इसीलिए वह जैसे तैसे कर कर अपने पूरे महीने का चालान का कोटा पूरा करके देते हैं और कोटा पुराने होने पर उनके सर्विस पर्फॉर्मेंस पर काफी असर पड़ता है

3 दंड के पात्र जब कोई ट्राफिक पुलिस वाला किसी गाड़ी को रोककर उस गाड़ी के सभी कागजों को चेक करें और उन कागजों में कोई भी गलती ना मिलने के बाद उन कागजों में कोई गलती निकालें और उसके बाद गाड़ी के अंदर कोई गलती निकाल कर चलान काटे और अधिक चलान का डर दिखाकर रिश्वत मांगे और आपके द्वारा विरोध किए जाने पर कुछ ऐसे आरोप भी उस चालान के अंदर अपनी मर्जी से जोड़ दें जो आपने किए ही नहीं अपनी कलम और अपनी वर्दी की पावर का आपको इस गलत तरीके से एहसास कराए तब सचमुच वह दंड के पात्र हैं



 ट्रैफिक  पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi


इस पोस्ट से संबंधित कुछ सवाल जवाब




1  हम क्या कर सकते हैं अगर हमसे किसी ने रिश्वत मांगी हो और रिश्वत ना देने पर हमारा गलत चालान काट दिया हो


भारत की सुप्रीम कोर्ट ने  Lucknow Development Authority और MK  गुप्ता का केस का निपटारा करते हुए 5-11-1993 को  अपना फैसला सुनाया और फैसले में कहा था   सभी सरकारी कर्मचारी आम जनता के नौकर हैं इसीलिए सरकारी कर्मचारियों की  Activity उनकी सेवा में Described duties के अनुसार ही होनी चाहिए न कि जनता के साथ अन्याय (Injustice) व उनकी परेशानी का सबब  अगर कोई सरकारी कर्मचारी अपनी नौकरी से या अपने फर्ज से जनता के साथ किसी भी प्रकार का अन्याय या उनके लिए कोई भी परेशानी खड़ी करता है उस सरकारी कर्मचारी का यह एक उसके पद का दुरुपयोग माना जाएगा जिसके लिए उन पर कानून की कोई भी रियायत नहीं बरती जाएगी और इस तरह का जुर्म उन पर साबित होने पर उनको दंडित जरूर किया जाएगा और इसके साथ ही बड़े अधिकारियों को सूचना दी जाती है कि ऐसे घूसखोर कर्मचारियों की हरकतों पर वह एक अपना अलग रिकॉर्ड रखें हमारे देश में कानून से बढ़कर कुछ भी नहीं है कानून तोड़ने वाले या अपने कानूनी अधिकारों का गलत उपयोग करने वाले अधिकारियों के लिए हमारे देश में कहीं भी माफी का प्रावधान नहीं है यह सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में बताया था

अगर ट्रैफिक पुलिस के किसी कर्मचारी ने  आपका गलत चालान काट दिया वह भी इसलिए कि आपने उन की जेब गर्म नहीं की तो आप बेशक उनके खिलाफ शिकायत कर सकते हो


Q  हम अपनी शिकायत कहां और कैसे दर्ज कर सकते हैं ऐसे कर्मचारी के खिलाफ


A ऐसे ट्रैफिक पुलिस वाले के खिलाफ आपको अगले दिन अपने जिले के अनुसार traffic superintendent लिखित एक कंप्लेंट दे सकते हो  या फिर जिले के Senior superintendent of police को दें।




 IMPOTENT


1  

चालान कटने के बाद आप कोई भी   Argument  ऑफिसर से ना करें नहीं तो आप पर एक आरोप और भी लग सकता है वह ऑन ड्यूटी एक ऑफिसर से बदतमीजी करने का और  जिसका आपको दंड मिल सकता है


2  अगर आपका वाकई गलत चालान काट दिया जाता है तो उस गलत  चालान का भुगतान करें भुगतान करने के बाद अपने चालान की रसीद हासिल करें फिर अपनी लिखित शिकायत (Written complaint) के साथ चालान और भुगतान की रसीद attached करें।


3  हमेशा याद रखें चालान के वक्त आपको शांति से पेश आना है और चालान का भुगतान कर कर अपने भारत के कानून व्यवस्था को सम्मान देते हुए एक   जिम्मेदार भारतीय नागरिक का फर्ज निभाया है  जो कि हर एक भारतीय के लिए एक स्वाभिमान की बात है


4  अपनी शिकायत पर हुई करवाई रिपोर्ट की कॉपी मांगे और कोई करवाई नहीं होने पर उनके कारणों के बारे में पूरी जानकारी अपने सूचना के अधिकार के तहत मांगे।


5 याद रखें कि सूचना का अधिकार आपके द्वारा दी गई शिकायत को फाईलों में दबने नहीं  देगा और वांछित जानकारी (Desired information) और रिजल्ट जरूर देगा, आप शुरुआत तो करें





Note    हरियाणा और चंडीगढ़ में चालान कटने के बाद चालान फॉर्म पर सिग्नेचर करने से पहले ड्राइवर उस चालान फोन पर अपनी कमेंट दे सकता है और दूसरे राज्यों में इसके बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए आप लोग     अपने स्टेट के ट्रैफिक हेल्पलाईन से जुड़ी जानकारी हासिल करके कि above facility available है या नहीं फिर कॉमेंट्स दर्ज करे।



अगर आपके कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते हो सवाल  वाजिद  होंगे तो उनका आपको रिप्लाई कर दिया जाएगा


 नेहा यादव

                                                                                                                    
ट्रैफिक पुलिस गलत चालान काटती दे क्या करें ? How to deal with traffic police in Hindi Reviewed by Rule Breaker on June 16, 2018 Rating: 5

No comments:

आप का कोई सुझाव परामर्श देने के लिए
या आप को लिखे गये पोस्ट के मुताबित मदत और सहयेता के लिए
आप कमेंट लिख सकते हो

All Rights Reserved by ANISHAHIR © 2014 - 2018
Powered by Blogger, Designed by Ahir group's

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.